रात को दूध चुराकर पीते थे धीरूभाई, 1 आइसक्रीम के लिए दांव पर लगाई थी जान !

0
9500

2nd कहानी @ जब रात में चोरी से फ्रिज से सारा दूध निकाल पी गए थे धीरूभाई

– धीरूभाई के यमन के साथी और दोस्त भरतभाई शाह ने Dainik Bhaskar को बताया, ‘मैं और धीरू 1950 से 1958 तक 8 साल एक ही कंपनी ‘ए. बेसे एंड कंपनी’ में रहे। हमारी शुरुआत जूनियर क्लर्क पोस्ट पर हुई।’
– ‘उस दौरान धीरू हम साथी 28 लोगों में सबसे भीमकाय थे। इसलिए उन्हें गामा पहलवान के नाम से बुलाते थे। इतना ही नहीं, मैं और बाकी सब उससे बहुत डरते थे।’
– जिस मेस में धीरूभाई रहते थे, वहां सभी को हर रात 1 गिलास दूध मिलता था, लेकिन धीरूभाई का पेट नहीं भरता। 11 बजे के बाद धीरूभाई चुपचाप उठते और सारा दूध पी जाते।
– बता दें, भरतभाई और धीरूभाई को लेकर ये एक दुर्लभ संयोग ही है कि दोनों का जन्म एक ही दिन, एक ही समय और एक ही साल हुआ था। यानी 28 दिसंबर 1932 सुबह 5 बजे।
1
2
3
4
5
6
7
8

LEAVE A REPLY