ये जवान वीरगति प्राप्त करने के बाद भी कर रहा है इंडियन बॉर्डर पर पहरेदारी, मिलिए इंडियन आर्मी के इस शहीद से !

0
13179

उनके सपने के सच होने का सबूत ये भी था कि एक बार उन्‍होंने एक ही जानकारी को लेकर दो लोगों को एक ही जैसा सपना दिखाया। बड़ी बात ये रही कि दोनों ही सपनों में जो एक बात बताई गई थी, वो पूरी तरह से सच साबित हुई।

 

कहा जाता है कि सपने में उन्होंने इच्छा जाहिर की थी कि उनकी समाधि बनाई जाए। उनकी इच्छा का मान रखते हुए उनकी एक समाधि भी बनवाई गई। इस समाधि पर वहां अब मंदिर बनवा दिया गया है।

1
2
3
4
5
6
7

LEAVE A REPLY