कभी पैसे की कमी से छोड़नी पड़ी थी पढाई लेकिन आज है 1200 करोड़ का मालिक।

0
1466

आज ऐसे ही सख्शियत से आपका परिचय करने जा रहे है जो बचपन में तमाम परेशानियों का सामना करते आज अपने जीवन के बुलंदियों पर है

कहते है की इंसान को कभी हार नहीं मानना चाहिए। इंसान अगर मन में किसी काम को ठान ले और उसे कर गुजारने के लिए अगर कठिन और ईमानदार कोशिस करे तो लाख परेशानियां भी उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकती है। एक कहावत है की आसमाँ में भी छेद हो सकता है कोई पत्थर तबियत से तो उछालो। कहने का अर्थ है की कार्य चाहे कितना भी कठिन हो उसे करने के लिए कोशिस ईमानदार होना चाहिए। पंजाब के तरनतारन में गुरबख्‍श चहल का जन्म हुआ था। लेकिन मात्र 3 साल की उम्र में ही वे अपने माता पिता के साथ अमेरिका चले गए।

हमलोग ऐसा समझते है की अमेरिका जाने वाल हर इंसान दौलतमंद होता है लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी की ये अपने माता-पिता के साथ अमेरिका के स्लम में रहते थे। अपनी बायोपिक “द ड्रीम” में चहल बताते है की वे उनदिनों बेहद गरीब थे और 10 वीं की पढ़ाई कर रहे थे लेकिन आर्थिक तंगी के कारण उन्हें उन्हें नौकरी करनी की जरुरत पड़ी जिसके लिए उन्होंने मैक्डोनाल्ड में वेटर के पद के लिए आवेदन किया लेकिन वहां उन्हें सफलता नहीं मिली।

इंटरनेट एडवर्टाइजिंग में शुरू से ही दिलचस्पी रखने वाले गुरबख्‍श चहल ने मात्र 16 साल की उम्र में ही अपना बिजनस शुरू करने का फैसला किया और पढाई को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। ‘क्लिक वेंचर’ नामक इनकी पहली कम्पनी थी जिसे 6 महीने तक कोई कॉन्ट्रैक्ट नहीं मिला लेकिन आखिकार लन्दन से इन्हे एडवरटाइजिंग क्लिक प्रोग्राम के लिए कॉन्ट्रैक्ट मिला और इनकी गाडी चल पड़ी। चहल ने आगे चलकर ब्लू लिथियम और रेडियमवन एड क्लिक कंपनी बनाई जिसे 2007 में 30 करोड़ डॉलर में याहू को बेच दी। इस समय इनकी उम्र महज 25 साल थी। अभी इनकी कम्पनी का नाम ग्रैविटी-4 है जिसका मुख्यालय सैनफ्रांसिस्को में है।

 

गुरबख्‍श चहल अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के करीबी थे। उन्हें कई बार व्हाइट हॉउस में डिनर के लिए इन्वाइट भी किया गया था। चहल को मशहूर शो “‘ओप्रा विन्फ्रे शो “में बतौर मुख्य मेहमान बुलाया गया था। जिसमें उन्हें “मोस्ट एलिजबल बैचलर” का ख़िताब भी दिया गया।

LEAVE A REPLY