फ्लॉप रही ये एक्ट्रेस, अब बिजनेसमैन से शादी कर संभाल रही करोड़ों की कंपनी

0
169

बॉलीवुड में ऐसी कई एक्ट्रेस हैं, जो शुरुआती हिट फिल्में देने के बाद भी इंडस्ट्री में ज्यादा वक्त तक टिक नहीं पाईं। इन्हीं में से एक नाम है ट्यूलिप जोशी का। 11 सितंबर, 1979 को मुंबई की एक गुजराती फैमिली में (पिता गुजराती और मां अर्मेनियम) जन्मीं ट्यूलिप ने 2002 में यश चोपड़ा की फिल्ममेरे यार की शादी हैसे डेब्यू किया था। उनकी यह फिल्म हिट रही लेकिन इसके बाद उनकी कोई भी फिल्म कामयाब नहीं हो पाई।

फिल्मों में काम करने के दौरान ही ट्यूलिप को कैप्टन विनोद नायर से प्यार हो गया। विनोद ने पॉपुलर नॉवेलप्राइड ऑफ लॉयन्सलिखा है। दोनों करीब 4 साल तक लिवइनरिलेशन में रहे। हालांकि कहा जाता है कि बाद में दोनों ने शादी कर ली, लेकिन इनकी शादी के बारे में ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है।

करोडो की कंपनी की डायरेक्टर हैं ट्यूलिप
विनोद नायर 1989 से 1995 के बीच इंडियन आर्मी में रहे। वो पंजाब रेजिमेंट की 19वीं बटालियन में थे। इसके बाद वो आर्मी छोड़कर वापस मुंबई आ गए।  सितंबर, 2007 में उन्होंने अपनी ट्रेनिंग और मैनेजमेंट कंसल्टिंग फर्म (KIMMAYA) शुरू की। मीडिया सर्किल में उन्हें कैप्टन विनोद नायर के नाम से ही जाना जाता है। ट्यूलिप जोशी फिलहाल विनोद नायर के साथ ही इस कंपनी की डायरेक्टर भी हैं।

ट्यूलिप को ऐसे मिली थी पहली फिल्म 
यूलिप ने जमनाबाई नरसी स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की। इसके बाद विवेक कॉलेज से मेजरिंग फूड साइंस एंड केमिस्ट्री में ग्रैजुएशन किया। पढ़ाई खत्म करने के बाद उन्होंने 2000 में फेमिना मिस इंडिया में भाग लिया, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। ट्यूलिप की एक फ्रेंड की शादी में आदित्य चोपड़ा ने उन्हें देखा और फिल्म का ऑफर दिया। फिर वह ऑडिशन के लिए गई और फिल्ममेरे यार की शादी हैमें उन्हें काम करने का मौका मिल गया।

ट्यूलिप ने 2003 में फिल्ममातृभूमिमें काम किया। कन्या भ्रूण हत्या पर बेस्ड इस फिल्म में उन्होंने कल्कि का दमदार रोल प्ले किया। फिल्म में कल्कि पांच भाइयों से एक साथ शादी करती है। उसे हफ्ते की हर रात अलगअलग भाइयों के साथ बितानी पड़ती है। हालांकि बावजूद इसके फिल्म को कुछ खास सफलता नहीं मिली। इसके बाद उन्होंने दिल मांगे मोर (2004) और शून्य (2006) जैसी फिल्में कीं लेकिन ये भी फ्लॉप रहीं।

ट्यूलिप को जब बॉलीवुड में सफलता नहीं मिली तो उन्होंने साउथ की फिल्मों का रुख कर लिया। उन्होंने 2007 में मलयालम फिल्ममिशन 90 डेजमें काम किया। इसके बाद तेलुगु फिल्मकोंचेम कोथागाऔर कन्नड़ फिल्म सुपर में काम किया।

हिंदी फिल्मों की बात करें तो ट्यूलिप आखिरी बार 2014 में आई फिल्मजय होमें दिखी थीं। हालांकि फिल्म में उनका कैमियो रोल था, जिसकी वजह से उन्हें किसी ने नोटिस नहीं किया। वैसे ट्यूलिप 2014-15 में टीवी शोएयरलाइंसमें पायलट के रोल में भी दिख चुकी हैं।

ट्यूलिप ने करियर में करीब 20 फिल्मों में काम किया। इनमें मेरे यार की शादी है के अलावाविलेन‘ ‘मातृभूमि‘, ‘दिल मांगे मोर‘, ‘मिशन 90 डेज‘, ‘धोखा‘, ‘कभी कहीं‘, ‘सुपर स्टार‘, ‘डैडी कूल‘, ‘रनवेप्रमुख हैं। उन्होंने पंजाबी फिल्मजग जियोदयां दे मेले‘, ‘यारा ओ दिलदारामें भी काम किया है।

LEAVE A REPLY