पंचायत के फैसले से दुखी होकर नाबालिक ने उठा लिए इतना बड़ा कदम !

0
405

क्या है पूरा मामला चंद्रशेखर दास के तीन बेटे थे। बड़े बेटे सतीश दास की मौत चार साल पहले करंट लगने से हो गई थी। इससे एक बेटा और एक बेटी है। फिलहाल बेटी की उम्र सात और बेटे की उम्र पांच साल है। मंझले बेटे मनीष की भी शादी हो चुकी है। छोटा बेटा महादेव उर्फ शिवधन दास नौवीं का स्टूडेंट था। इसकी उम्र 15 साल थी। बड़े बेटे की विधवा रूबी देवी के मायके वाले दोबारा शादी के लिए 80 हजार मांग रहे थे। इसके लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा था। नहीं देने की स्थिति में सोमवार को पंचायती हुई और नाबालिग से विधवा की शादी जबरन करा दी गई।

बेटे के सुसाइड के बाद पिता ने ये कहा इस घटना की सूचना के बाद भी लड़की के घर से कोई उसके ससुराल नहीं पहुंचा। मृतक के पिता चंद्रशेखर दास एक हाथ से विकलांग हैं। उन्होंने कहा कि 80 हजार रुपया नहीं दिए इसलिए दबाव देकर शादी करा दिया। पैसा होता तो बेटा नहीं गंवाना पड़ता। बताया जा रहा है कि जिस देवी मंदिर में पंचायती से लेकर नाबालिग की शादी तक हुई, उसके बाउंड्री के ठीक पीछे थाना है। यानी पुलिस अधिकारियों के आवास की छत से सब कुछ देखा जा सकता था। हालांकि पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी।

नाबालिग की मौत के बाद मंगलवार की सुबह सूचना दिए जाने पर पुलिस पहुंची और पोस्टमार्टम और यूडी केस दर्ज करने की औपचारिकता भर निभाई। थानाध्यक्ष इस मसले पर कुछ कहने के बजाय सिर्फ इतना ही बता रहे कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कोई कार्रवाई होगी। उधर, टिकारी के डीएसपी मनीष कुमार सिन्हा का कहना है कि घटना की पूरी जानकारी प्राप्त की जा रही हैं। नाबालिग की जबरन शादी की भी जानकारी मिली है। जांच में यदि यह सत्य पाया गया तो दोषी लोगों पर एफआईआर दर्ज किया जाएगा।

LEAVE A REPLY