कॉलेज में पढ़ने भी जाती है 21 साल की जया, सुनने उमड़ती है लोगों की भीड़

0
302

वे 5 साल की उम्र से कथा-वाचन कर रही हैं।सिर्फ 9 साल की उम्र में ही जया ने संस्कृत में लिंगाष्टकम्, शिव-तांडव स्तोत्रम्, रामाष्टकम् आदि कई स्तोत्रों को गाना शुरू कर दिया था। 10 साल की छोटी उम्र में जया ने सुन्दरकाण्ड गाकर लाखों भक्तों के मन में अपनी जगह बनाई थी।

बहुत कम वक्त में उन्होंने एक भागवत कथावाचक के तौर पर पहचान बना ली है। भागवत कथा-वाचन के लिए उन्हें दूसरे शहरों से भी बुलाया जाता है। उनके भजनों का बाकायदा एक ऐप भी है। जिसका नाम जया किशोरी रेडियो रखा गया है। इसके जरिए सीधे उनके फैन पेज और वेबसाइट तक पहुंचा जा सकता है। इसे अब तक करीब 5 हजार से ज्यादा लोग डाउनलोड भी कर चुके हैं।

LEAVE A REPLY