मिलिए, इंडियन बॉर्डर की पहरेदारी करने वाले इस भूत से !

0
12584

दो दिन तक उसी जगह पर उनको खूब ढूंढा गया, लेकिन वो नहीं मिले। कहा जाता है कि उसके बाद उन्होंने अपने एक साथी सैनिक के सपने में आकर अपने शरीर के बारे में जानकारी दी। सपने में उनकी बताई हुए जगह पर खोजबीन करने पर तीन दिन बाद भारतीय सेना को उनका पार्थिव शरीर उसी जगह मिला।

 

उन्‍होंने उसी सिपाही को सपने में ये भी बताया कि वो आगे भी हमेशा सीमा पर तैनात रहेंगे। ये भी सच हुआ। कहा जाता है कि बाबा हरभजन सिंह नाथु ला के आस-पास चीन सेना की गतिविधियों की जानकारी अपने मित्रों को सपनों में वैसे ही देते रहे, जैसा कि उन्‍होंने कहा था। ये जानकारियां हमेशा सच भी साबित होती थीं।

LEAVE A REPLY